Exam Preparation Group

GK, HISTORY, SCIENCE MATHS, ENGLISH, HINDI & MANY MORE

राजस्थान स्थानीय सामान्य ज्ञान

राजस्थान स्थानीय सामान्य ज्ञान

प्रश्न- 1 पंचपीर कौन थे?*

*उत्तर-* सांस्कृतिक एकता के प्रतीक राजस्थान के पाँच लोकदेवता पाबूजी, हड़बू जी, रामदेवजी, मेहाजी मांगलिया और गोगाजी।
*प्रश्न-2 पाने क्या है?*

उत्तर- कागज पर बने देवी-देवताओं के चित्र जिन्हें धार्मिक अवसर पर प्रतिष्ठित किया जाता है।
*प्रश्न-3 राजप्रशस्ति क्या है?*

*उत्तर-* राजसमन्द झील की नौ-चौकी पर रणछोड़ भट्ट द्वारा मेवाड़ के इतिहास पर 1676 ई. में संस्कृत में लिखित 25 शिलाओं पर उत्कीर्ण महाकाव्ययुक्त सबसे बड़ा शिलालेख।
*प्रश्न-4 चौपड़ा क्या है?*

*उत्तर-*निश्कलंकी संप्रदाय के संत मावजी द्वारा वाद-विवाद शैली में रचित ग्रन्थ।
*प्रश्न-5 साहित्य की विधा रास से क्या अभिप्राय है?*

*उत्तर-*जैन कवियों द्वारा विकसित नृत्य-गायन व अभिनय तीनों कला से युक्त साहित्य की एक विधा।
*प्रश्न-6 ओल्यू क्या है?*

उत्तर- दाम्पत्य प्रेम से परिपूर्ण विलापयुक्त लयबद्ध गीत जिसमें पति के लिए भंवरजी, कँवरजी का तथा पत्नी के लिए मरवण व गौरी का प्रयोग किया गया है।
*प्रश्न-7 मरू-त्रिकोण क्या है?*

*उत्तर-*पश्चिमी राजस्थान के मरुस्थलीय जिलों जैसलमेर, बीकानेर व जोधपुर के पर्यटन स्थलों को मरू-त्रिकोण के रूप में JBIC, जापान के सहयोग से विकसित किया जा रहा है।
*प्रश्न 8- गजलर क्या है?*

*उत्तर-*राष्ट्रीय मरू-उद्यान में जगह-जगह पानी एकत्रित करने हेतु निर्मित किये गए टैंक।

राजस्थान में वन विभाग ने वन्यजीवों के पानी के लिए होने वाले पलायन को रोकने तथा वन सम्पदा को संरक्षित और संवद्धित बनाने के लिए महती योजना बनाई है जिसके अंतर्गत वन क्षेत्रों में पानी के ऐसे टैंक या कुण्ड विकसित किए गए हैं, जिनमें बरसात का पानी एकत्र कर वन्य जीवों को सालभर पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। विशेष तौर पर बनने वाले कुण्डों को गजलर कहा जाता है।

वन क्षेत्र में वन्यजीवों के लिए वर्तमान में बने जलस्रोतों की तुलना में गजलर में 35 से 40 हजार लीटर से अधिक पानी संग्रहित किया जा सकेगा। बारिश के पानी से एक बार गजलर भर जाने पर सालभर तक पानी की कमी नहीं रहेगी। बारिश नहीं हुई तो टैंकर के जरिए गजलर को भरा जा सकेगा।
*प्रश्न-9 सगरा भोजका क्या है?*

*उत्तर-* इन्डो-इजरायल पद्धति से खजूर उत्कृष्ट केंद्र के रूप में स्थापित जैसलमेर जिले का एक गाँव।

(राज्य सरकार द्वारा राज्य के विभिन्न स्थानों पर उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्टता केन्द्रों की स्थापना की गई है जिनमें खैमरी (धौलपुर) में सभी प्रकार के फलों का, सगरा भोजका (जैसलमेर) में खजूर का, ढिंढोल (जयपुर) में अनार का, झालावाड़ में उद्यानिकी फसलों का, देवड़ावास (टोंक) में अमरूद का और कोटा नींबू वर्गीय फलों का उत्कृष्टता केन्द्र स्थापित किया गया है। जैसलमेर के सगरा भोजका में लगा खजूर का उद्यान देश का सबसे बड़ा खजूर का उद्यान है)

*प्रश्न-10 भतुल्या या भगुल्या या भूतालिया किसे कहते हैं?*
*उत्तर-* राजस्थान में मई – जून के माह में गर्मी के कारण संवहनिक धाराओं के कारण स्थानीय स्थानीय रूप से उत्पन्न वायु भंवर।
*प्रश्न-11 राज्य में भेड़ों की प्रमुख नस्लों के नाम लिखो?*

*उत्तर-* मालपुरी, चोकला, सोनाड़ी, नाली, पूगल, मगरा, मारवाड़ी, जैसलमेरी एवं खेरी।
*प्रश्न-12.इंदिरा लिफ्ट सिंचाई परियोजना क्या है?*
*उत्तर-* सवाईमाधोपुर जिले में स्थापित करौली, सवाई माधोपुर भरतपुर जिले की परियोजना जिसमें चंबल नदी के पानी को कसेड़ा ग्राम के समीप 120 मीटर ऊंचा उठाकर (लिफ्ट कर) करौली, हिंडौन, टोडाभीम, नादौती, गंगापुर, बामनवास, महुआ तथा बयाना के 370 गांवों की कृषि भूमि पर सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी। परियोजना की कुल सिंचाई क्षमता 1.07 लाख हैक्टेयर है।
*प्रश्न-13 अजरक प्रिंट क्या है?*

*उत्तर-*दोनों तरफ छपाई वाली बाड़मेरी प्रिन्ट,जिसमें लाल एवं नीले रंग का सर्वाधिक प्रयोग होता है।

*प्रश्न-14 राजस्थान के प्रमुख संगमरमर उत्पादक क्षेत्र कौन-कौनसे हैं?*
*उत्तर-* संगमरमर उत्पादन में राज्य का एकाधिकार है। 

यहां मकराना (नागौर), राजसमंद, भैंसलाना (काला संगमरमर), 

उदयपुर (हरा संगमरमर), 

आंधी (जयपुर),

आबू रोड, बर्डिया (पाली), 

दौलतपुर, कायमपुरा (अजमेर), ओण्डा, दादमपीर (अलवर) से संगमरमर निकाला जाता है। राज्य में मकराना, किशनगढ़, राजसमंद बड़ी मंडियों के रूप में विकसित हुए हैं।

*प्रश्न-15 मौताणा और चढ़ोतरा क्या है?*
*उत्तर-* मौताणा यानि मौत का मुआवजा, उदयपुर जिले के मीणा और भील जनजाति बहुल क्षेत्र में प्रचलित इस प्रथा के अनुसार किसी व्यक्ति की हो जाने की स्थिति में पीड़ित पक्ष दूसरे पक्ष से मुआवज़ा लेता है, जिसे मौताणा कहते हैं। यदि दूसरा पक्ष इससे इंकार करता है तो बदला लेने के लिए वह उसके घर में आग लगा देता है या उसी तरह की अन्य घटना को अंजाम दे सकता है अथवा क्षतिपूर्ति मिलने तक मृतक के शव को उसके घर के सामने रखकर प्रदर्शन कर सकता है, *जिसे चढ़ोतरा कहते हैं।*

Updated: October 27, 2016 — 12:13 am
Exam Preparation Group © 2016 Frontier Theme